Close
Skip to content

आपके संदेश

उस ज़माने में जहाँ लिखने वालों की बाढ़ आई हो उसमें से अच्छा पढ़ने की सामग्री छाँटने की ज़िम्मेदारी लेना और उसे लेखक से कोई नगद मूल्य वसूले बिना लोगों को उपलब्ध कराना एक सुंदर, सार्थक और आवश्यक प्रयास है। मेरी ओर से हार्दिक शुभकामनाएं !

 

Testimonials
अंकिता जैन
लेखक, निर्देशक (वैदिक वाटिका : एग्रो फर्म)

I congratulate the team for the initiative taken, which will further serve as a tool of sharing stories, innovations, ideas, knowledge and expertise and thereby overall enhancing the readers with a wide choice of topics.

I firmly believe Sahitya-Vimarsh has a key role in future in enabling the readers and authors together with some of the beautifully presented stories in different languages.

I also believe that the publication will become a valuable platform for promoting collaboration and sharing various forms of stories and insights of specialists and distinguished scholars around.

In this spirit, I welcome warmly the launch of Sahitya – Vimarsh publication by you. It is a timely initiative that will support our authors and empower them.

I would like to extend my sincere congratulations and best wishes for success of Sahitya-Vimarsh and I hope it will contribute to the development of the field and encourage those who are involved.

Testimonials
कंवल शर्मा
उपन्यासकार

साहित्य विमर्श एक  बड़े उपक्रम की शुरुआत है, ऐसा मेरा मानना है । वर्तमान में कई प्रकाशन घर प्रकाशक से अधिक प्रिंटर का कार्य कर रहे हैं , मेरा पूरा विश्वास है कि साहित्य विमर्श एक नयी परंपरा को जन्म देगा , खूब फलेगा – फूलेगा । आप सभी को प्रकाशन की सफलता हेतु शुभकामनाएं ।

Testimonials
अंकुर मिश्रा
लेखक, बैंकर

हमेशा से सुनता आया हूं कि किताबें हमारी सबसे अच्छी दोस्त और मार्गदर्शक होती हैं, और किताबें साहित्य की हों तो सोने पे सुहागा। आज के इस दौर में जब इंसान कई सारे उतार चढ़ाव से गुज़र रहा है, तो साहित्य विमर्श का ये प्रयास हर किसी को एक अच्छा दोस्त, मार्गदर्शक और जीवन को नई दृष्टि से देखने की प्रेरणा दे सकता है। इस सराहनीय कार्य के लिए मेरी तरफ़ से हार्दिक शुभकामनाएं

Testimonials
राकेश चतुर्वेदी ओम
ऐक्टर, डायरेक्टर, प्रोड्यूसर, राइटर

नए लेखकों के लिये छपना एक सपना होता है जिसे पूरा करने में कई बार लिखने से भी अधिक मेहनत करनी पड़ जाती है और साथ ही कई प्रकाशक उनसे प्रकाशन के लिये पैसे भी लेते हैं। साहित्य विमर्श ऐसे लेखकों के लिये वरदान की तरह है जहां प्रकाशन का निर्णय लेखन-कार्य के मूल्यांकन के आधार पर होता है न कि आर्थिक आधार पर। साहित्य विमर्श टीम को बहुत शुभकामनायें।

Testimonials
नवीन चौधरी
लेखक, मार्केटिंग प्रोफेशनल

When a group of young, talented authors form a team and become publishers, then it certainly is a bold, brave and responsible step raising huge expectations among the aspiring writers.

Wishing them all the best, I would love to see them succeed becoming Big publishers soon, helping and reaching out to all young writers.”

 

Testimonials
Bobby Sing
Senior Film Critic, Bobbytalkcinema

साहित्य विमर्श ई-पत्रिका के रूप में एक मक़ाम रखता है। अब यह प्रकाशन के क्षेत्र में भी अग्रसर है। पुरउम्मीद हूँ कि साहित्य विमर्श प्रकाशन में भी वही गुणवत्ता स्थापित करेगा जिसके लिए उसकी ख्याति है।
मेरी शुभकामनाएं…

Testimonials
सत्य व्यास
लेखक

हिन्दी प्रकाशन क्षेत्र में इस तरह के प्रयासों की बहुत आवश्यकता है जहाँ लेखकों का ध्यान रखा जाए और पाठकों तक उम्दा लेखन कम कीमत पर पहुँचाया जा सके। इस क्षेत्र में नवाचार और नए विचारों की गंभीर कमी है। मेरी आशा है कि ‘साहित्य विमर्श’ इस दिशा में आरम्भ किए अपने प्रयास को आगे ले जाते हुए नित नई ऊँचाईयाँ प्राप्त करेगा।

Testimonials
ललित कुमार
लेखक,कविता कोश-गद्य कोश के संस्थापक

पिछले कुछ वर्षो में जब से तकनीक से जुड़े युवा हिंदी साहित्य में प्रवेश करने लगे, तब से हिंदी साहित्य नवीनीकरण के दौर से गुज़र रहा है. हिंदी साहित्य का प्रकाशन भी इस वक्त बदलाव के दौर से गुज़र रहा है.

ऐसे समय में हिंदी साहित्य से जुड़े कुछ युवा जब प्रकाशन शुरू करते है तो उम्मीद बनती है कि वह पुराने ढर्रे से चल रहे व्यवसाय को नयी दिशा प्रदान करेंगे. जो एक तरह का क्लोज्ड सर्किल बना हुआ है, वह टूटेगा. नए लेखकों को मौका मिलेगा और हिंदी साहित्य दूर दूर तक पहुँचेगा.

इसी पहल में कुछ युवा जो बुक बाबू नाम का साहित्यिक ग्रुप चलाते हैं, उन्होंने और कुछ अन्य साहित्य प्रेमियों के साथ मिलकर साहित्य विमर्श प्रकाशन की स्थापना की है.

इस प्रकाशन से मुझे बहुत उम्मीदे हैं कि यह प्रकाशन तकनीक के साथ कदम ताल तो मिलाएगा ही, साथ ही साथ जमीन से जुड़कर प्रकाशन व्यवसाय को नए आयाम देगा. मैं सभी लेखको और पाठको से आग्रह करता हूँ कि इस तरह की बेहतरीन पहल से अवश्य जुड़े और इन युवा साथियों को सहयोग प्रदान करे.

Testimonials
भगवंत अनमोल
लेखक

किसी भी नए रचनाकार के लिए उसकी रचनाएँ उतनी ही महत्वपूर्ण होती हैं जितनी की किसी स्थापित रचनाकार की। बहुत लोग ऐसे हैं जो इतना अच्छा काम कर रहे हैं कि उनको काम सामने आना ही चाहिए पर बहुत सारी जटिलताओं के चलते कभी-कभी हतोत्साहित भी हो जाते हैं। ऐसे में कुछ नए पब्लिकेशन हाउस सामने आ रहे हैं जो नए रचनाकारों के लिए दिल से काम करना चाहते हैं ऐसा ही एक हैं साहित्य विमर्श।

साहित्य के क्षेत्र में सार्थक काम करने के लिए और हम सब तक अच्छा साहित्य उपलब्ध कराने की इस मुहिम के लिए, मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएँ साहित्य विमर्श की पूरी टीम को।

Testimonials
डॉ. सुषमा गुप्ता
लेखक

एक छोटे से कदम से ही एक लंबे सफ़र की शुरूवात होती है। ‘साहित्य विमर्श’ निशुल्क प्रकाशन के सफर में ऐसा ही एक छोटा सा कदम है जो आने वाले समय में मील का पत्थर साबित हो सकता है। मैं आशा करता हूँ कि ‘साहित्य विमर्श’ पारम्परिक साहित्य लेखन को बढ़ावा देने के साथ साथ आधुनिक लेखन को स्थापित करने में भी अहम भूमिका निभाएगा व नए लेखकों का एक मार्गदर्शक के रूप में पथ प्रशस्त करेगा। ‘साहित्य विमर्श’ को मेरी ओर से अशेष शुभकामनाएँ।

Testimonials
सचिन देव शर्मा
लेखक, मानव-संसाधन विशेषज्ञ

लिख लेना तो बहुत सरल है जटिल है उसका छप पाना। साहित्य विमर्श ने ये जो पहल शुरू की है बगैर लेखक से पैसा लिये उसके लिखे को छापने की इसके लिये उन्हें बहुत बधाई।हर्ष इस बात का है कि यहाँ योग्यता को अवसर मिलेगा।साहित्य विमर्श की पूरी टीम को मेरी अशेष शुभकामनाएँ… दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करें और हम सभी को अच्छी साहित्यिक कृतियाँ दें।

Testimonials
अभिधा शर्मा
लेखक

किसी भीड़ में शामिल होकर भीड़ के धक्के के सहारे आगे बढ़ने का मज़ा अलग है, ये आपको मुम्बई की लोकल ट्रेन में मिल जाएगा। लेकिन साहित्य की भीड़ में कुछ अलग करना ऐसा होता है कि या तो लोग आपको अकेला छोड़ देते हैं या फिर आपके सफल होने का इंतज़ार करते हैं ताकि वो आपसे जुड़े। इस अलग करने वालें में लेखक भी हैं और प्रकाशक भी। और ऐसे ही प्रकाशक है साहित्य विमर्श, जो हर लेखक को भीड़ से निकालकर अपने साथ एक मुकाम देना चाहते हैं। आसान नहीं है लेकिन मुश्किल तो तभी तक है जब तक कदम रुके हुए हों। साहित्य विमर्श एक ऐसी ऊर्जा और सोच के साथ सामने आ रहा है जिसकी आज सबसे ज़्यादा ज़रूरत है। मेरी दिली  शुभकामनाएँ इनके साथ है।

Testimonials
अभिलेख द्विवेदी
लेखक

पुस्तक प्रकाशन हर लेखक के लिए पुस्तक लिखने से भी अधिक जरूरी मुद्दा रहा है जिसमे एक अच्छी पहल लेकर आये है साहित्य विमर्श जिसमे पुस्तक को बिना लेखक से खर्च लिए प्रकाशित किया जाएगा ।

इस उत्तम कार्य के लिए साहित्य विमर्श को बहुत बहुत शुभकामनाएं व ऊंचाइयों तक पहुंचने की कामना रहेगी ।

Testimonials
सुरभि सिंघल
लेखक

आज हर शख्स अपने अंदर खयालों का समंदर लिए घूम रहा है । कुछ लोग इन खयालों को बोल कर मन पूरा कर लेते हैं तो वहीं कुछ लोग इन खयालों को शब्दों में पिरो कर कागज़ पर बिखेर देते हैं ।  ज़्यादा खोजना नहीं है बस इस फ़ेसबुक पटल पर ही नज़र घुमा लें तो आपको कई ऐसे नवांकुर मिल जाएंगे जिनमें लेखन के क्षेत्र में कुछ अलग और बड़ा करने की क्षमता है ।

लेकिन समस्या ये है कि ये आगे कैसे बढ़ें ? नए बच्चे हैं, अपना खर्च बामुश्किल चला रहे हैं तो भला पुस्तक प्रकाशन का खर्च कैसे उठा सकेंगे । ऐसे में उन सभी नए लेखकों के लिए एक सुनहरा मौका सामने आया है। आप जैसे लेखकों से सजी एक टीम अब प्रकाशन के रूप में आपके सामने है जो आपकी दिक्कतों को भी समझती है और आपके लिखने के जुनून को भी । यहां आपको केवल अपने लेखन का जादू दिखाना है, बाक़ी जिम्मेदारी प्रकाशन संभालेगा ।

कुछ ही समय में ये प्रकाशन एक बड़े स्तर पर होगा और उन सभी लेखकों तक पहुंच पाएगा जो लेखन में कमाल तो कर सकते हैं लेकिन प्रकाशन के मोटे शुल्क के कारण अपने शौक को मार लेते हैं ।

Testimonials
धीरज झा
लेखक

“ साहित्य विमर्श प्रकाशन “ का उदय साहित्य के फलक पर छाई धुंध के बीच हम नवलेखकों की बहुत सी उम्मीदों के साथ हो रहा हैं .
उम्मीद की बड़े प्रकाशकों के दर पर नवलेखकों को उनकी लघुता का एहसास नहीं कराया जाएगा और स्थापित लेखकों और प्रकाशकों बीच परदेदारी नहीं पारदर्शिता होगी . उम्मीद की कलम के साथियों को अपने शब्दों को किताब की शक्ल में बदलने के लियें खुद को खर्च नहीं करना होगा बल्कि उन्हें उनकी कलम का सम्मान के साथ सही मोल मिलेगा .
“ साहित्य विमर्श प्रकाशन “ क्रान्ति का दूत नहीं सही लेकिन वाहक अवश्य बनेगा और साहित्य सेवा के साथ- साथ अनेक शब्दकारों के सपनों को साकार करने में सहायक बनेगा इसे भरोसे के साथ “साहित्य विमर्श “ के सभी उर्जावान साथियों को शुभकमनायें एवं स्नेह .

Testimonials
मृदुल कपिल
लेखक

” साहित्य विमर्श – उत्कृष्ट साहित्य के प्रसार के लिए समर्पित “! छोटा सा बीज ही घना छायादार वृक्ष बनता है और बीज बो दिया गया है। अब इसकी छाँव का आनंद हर वो पाठक ले पाएगा जो अच्छी किताबों को पढ़ना चाहता है। साहित्य की बहती ज्ञान गंगा के किनारे हर लेखक और हर पाठक को विश्राम और आगे की यात्रा का मार्ग मिले, इसी विश्वास के साथ उज्ज्वल भविष्य की शुभकामना!!!

Testimonials
अंकुश सारस्वत
डायरेक्टर, टेक्नॉलजी ट्विस्ट

Dear SV team,
I recently came across your website. Loved this initiative so much!!! These days all the major publication houses are focussed on very narrow set authors who they believe can “sell”. In that set of selling authors, thrust has always been on finding authors who can cater to the sensibilities of people in metro cities and write English.
In these times, initiatives like Sathiya Vimarsh feel like an earthy scent of breeze after a heavy rain. By focussing on new authors in vernacular language SV team is trying to fill a serious market gap both for the new authors and for the vernacular readers of _Bharat. _ Just one feedback from my side, in future as your resources get freed up. I would recommend that the SV team should take this initiative to other languages as well. We have a treasure trove of stories in other Indian languages remaining t0 be discovered. Hope to discover those riches with SV.
I wholeheartedly wish the entire SV team a huge success for their upcoming publications.

Testimonials
Gaurav Paliwal

साहित्य विमर्श प्रकाशन

Contact

Email: contact@sahityavimarsh.in

2nd Floor, 987,Sec-9
Gurugram Haryana, 122006

Subscribe Newsletter

About Us

साहित्य विमर्श प्रकाशन, वह मंच है, जो भाषा-विशेष, विधा-विशेष, क्षेत्र-विशेष, लेखक-विशेष आदि बंधनो से पाठकों, लेखकों एवं प्रकाशकों को आजादी प्रदान करता है। हम प्रकाशन व्यवसाय के तीन स्तंभ – पाठक, लेखक एवं प्रकाशक को एक साथ लेकर चलने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

पाठकों को कम से कम दर में उच्चकोटि की पठन-सामग्री मुहैया कराना, लेखकों के मन के भाव व उनकी कलम की कार्यकुशलता को उचित स्थान देना एवं प्रकाशकों और उनकी पुस्तकों को अधिकाधिक पाठकों तक पहुंचाना। 

© साहित्य विमर्श प्रकाशन 2021 

Designed and Managed by Sahaj Takneek