Skip to content

449 या अधिक की खरीद पर डिलीवरी फ्री

satya vyas
प्रकाशक: हिंदयुग्म प्रकाशन
(2 customer review)

650 (-28%)

SKU: SVC1936 Category:

Free Shipping for SV Prime Members

Estimated Dispatch: October 2, 2022

Check Shipping Days & Cost //

2 reviews for Satya Vyas- Complete Set of 5 Novels

5.0
Based on 2 reviews
5 star
100
100%
4 star
0%
3 star
0%
2 star
0%
1 star
0%
  1. Avatar

    preeti

    Favorite writer. Best among new age writers

    (0) (0)
  2. Avatar

    सिद्धार्थ अरोड़ा ‘सहर’ (store manager)

    पांचों किताबें फुलटू entertaining हैं। बेस्ट सेलर हैं, एक वेब सीरीज़ (ग्रहण) बन चुकी है और 4 फिल्म्स निर्माणाधीन हैं।

    (0) (0)

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

Cancel

More Info

सत्य व्यास के सभी प्रकाशित उपन्यास एक साथ – बनारस टॉकीज, दिल्ली दरबार, चौरासी, बाग़ी बलिया और उफ्फ़ कोलकाता

बनारस टॉकीज- बनारस, बी एच यू, रोमांस, सपने, उम्मीदें और एक विस्फोट।

दिल्ली दरबार- राहुल और परिधि की प्रेम कहानी। एक छात्र की बिहार से दिल्ली तक की यात्रा या यूँ कहें कि एक बेफिक्र मस्तमौला के जिम्मेदार बनने की कथा।

चौरासी- शहर बोकारो। 1984 के सिक्ख दंगों की पृष्ठभूमि में रचा गया  मार्मिक प्रेमाख्यान

बाग़ी बलिया- बलिया शहर की पृष्ठभूमि में छात्र राजनीति की लोमहर्षक दास्तां

उफ़्फ़ कोलकाता- हॉरर, कॉमेडी और रोमांस का लाजवाब कॉकटेल

अस्सी के दशक में बूढ़े हुए। नब्बे के दशक में जवान। इक्कीसवीं सदी के पहले दशक में बचपना गुजरा और कहते हैं कि नई सदी के दूसरे दशक में पैदा हुए हैं। अब जब पैदा ही हुए हैं तो खूब उत्पात मचा रहे हैं। चाहते हैं कि उन्हें कॉस्मोपॉलिटन कहा जाए। हालाँकि देश से बाहर बस भूटान गए हैं। पूछने पर बता नहीं पाते कि कहाँ के हैं। उत्तर प्रदेश से जड़ें जुड़ी हैं। २० साल तक जब खुद को बिहारी कहने का सुख लिया तो अचानक ही बताया गया कि अब तुम झारखंडी हो। उसमें भी खुश हैं। खुद जियो औरों को भी जीने दो के धर्म में विश्वास करते हैं और एक साथ कई-कई चीजें लिखते हैं। अंतर्मुखी हैं इसलिए फोन की जगह ईमेल पर ज्यादा मिलते हैं। ब्लॉगिंग, कविता और फिल्मों के रुचि रखने वाले सत्य व्यास फ़िलहाल दो फिल्मों की पटकथा लिख रहे हैं। पहले चारों उपन्यास बनारस टॉकीज, दिल्ली दरबार, चौरासी और बाग़ी बलिया 'दैनिक जागरण-नीलशन बेस्टसेलर' की सूची में शामिल रहे हैं। तीसरे उपन्यास चौरासी पर ग्रहण के नाम से वेब सीरीज भी बनी। उफ़्फ़ कोलकाता इनका पाँचवाँ उपन्यास है।