Skip to content

549 या अधिक की खरीद पर डिलीवरी फ्री

449 या अधिक की खरीद पर कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प उपलब्ध (COD Charges: INR 50)
oct-combo

599/- ONLY

Age Recommendation: Above 15 Years
SKU: SV2569 Category:

Free Shipping for SV Prime Members

Estimated Dispatch: November 28, 2022

Check Shipping Days & Cost //

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

More Info

October में पहली तीन किताबें निम्न हैं –
चोला माटी के राम -In history nothing is true but the names and dates. In fiction everything is true but the names and dates. किसने कहा, याद नहीं. कहाँ पढ़ा याद नहीं… पर ‘चोला माटी के राम’ पढ़ते हुए बार-बार यह पंक्ति याद आई.
अभिषेक सिंह ‘नीरज’ जी ने नक्सल आंदोलन के विरोधाभासों.. आदर्श और यथार्थ के द्वन्द्व को उपन्यास के कलेवर में पेश किया है,लेकिन यह एक उपन्यास भर नहीं है..
October की दूसरी शानदार किताब है – साल दर साल – हिंदी साहित्य के प्रकांड विद्वान और दिल्ली विश्वविद्यालय में हिंदी के प्रोफेसर रहे Laxman Datt Gautam सर की आत्मकथा सिर्फ एक व्यक्ति की आत्मकथा नहीं है.. मेरे लेखे यह गुलामी की जंजीरों को तोड़ने और आत्मनिर्भर बनने का जीवट संजोने का आख्यान है.. व्यक्ति के लिए भी और देश के लिए भी. मेरे लिए यह किताब एक अन्य कारण से भी महत्वपूर्ण है. जिन दिनों यह किताब मुझे मिली, निराशा और अवसाद में डूबा हुआ था मैं. किताब पर काम करना शुरु भी यही सोच कर किया था कि मन शायद कुछ बदले… बता नहीं सकता, इस किताब ने कितनी हिम्मत दी. अभी भी जैसे ही नकारात्मक विचार हावी होने लगते हैं, मैं साल दर साल के पन्ने पलटने लगता हूँ.
October की तीसरी किताब है मंदिर का रहस्य – Suman Bajpai जी का बाल उपन्यास ‘मंदिर का रहस्य’ बच्चों के साथ साथ बड़ों को पढ़ने में भी आनंद आ सकता है।

Book Details

Weight 700 g
Pages:   

Jankipul के संस्थापक प्रभात रंजन की किताब X Y Ka Z एक कहानी संग्रह है। पंकज सुबीर जी इसके बारे में लिखते हैं कि “कुछ अलग तरह का गद्य पढ़ने ​की खोज में लगे पाठकों की तलाश जिन लेखकों पर जाकर समाप्त होती है, उनमें एक नाम प्रभात रंजन है। कहानी और संस्मरण के बीच आवाजाही करता यह लेखक अपने पाठक को अपनी शैली के प्रवाह और भाषा की रवानगी के साथ बहाए ले जाता हैं।

“jankipul” यह नाम जैसे प्रभात रंजन का ही अब दुसरा नाम हो चुका है”

Nymphomaniac सुरेन्द्र मोहन पाठक का बहुचर्चित उपन्यास है। यह पहली बार 1984 में प्रकाशित हुआ था। यह सुधीर सीरीज़ का उपन्यास है। सुरेन्द्र मोहन पाठक जी भी jankipul व प्रभात रंजन जी से भली भांति परिचित हैं। सुरेन्द्र मोहन पाठक जी के साक्षात्कार आप jankipul पर पढ़ सकते हैं।

कहानियों के दस्तखत गौरव कुमार निगम का कहानी संग्रह है। यह कहानी संग्रह बहुत विविध है। इसमें हर प्रकार की कहानियाँ हैं जो आपके अंदर रोमांच भी भर सकती हैं और अगले ही पल आपकी आँखों में आँसू लाने का भी दम रखती हैं।