Close
Skip to content
By सुरेन्द्र मोहन पाठक
September 13, 2021 से डिस्पैच
M.R.P.: 249 (Sale Price)
Format: पेपरबैक, हार्ड बाउन्ड
ISBN: 978-81-953625-9-2 SKU: SV985-1 Category: ,
Age Recommendation: Above 16 Years
  • कलेक्टर एडिशन फीचर्स :-
    • ऑटोग्राफ्ड कॉपीज (ओन्ली फॉर प्री-ऑर्डर कॉपीज)
    • बाइन्डिंग :- हार्ड बाउन्ड विथ डस्ट जैकेट
    • साइज़ :- 5.5″ x 8.5″
    • पेपर :- वाइट
    • पृष्ठ संख्या :- 180
    हालात से मजबूर एक स्त्री की हौलनाक कहानी जो जैसी खतरनाक जिंदगी जीती रही, वैसी ही खतरनाक मौत मरी। – निम्फ़ोमैनियाक “एक बार संतरा छिल जाए तो एक फांक की घट-बढ़ का कोई पता नहीं लगता था।” – ऐसे ही इंकलाबी खयालात की मालिक थी मेरे से विधिवत ब्याहता मेरी धर्मपत्नी। जब मैंने उसे रंगे हाथों एक गैरमर्द के साथ पकड़ा तो उसने अपने उस विश्वासघात की एक ही सफाई दी : ‘वो निम्फ़ोमैनियाक थी।’ सुधीर सीरीज का यादगार उपन्यास।

Book Details

Binding

हार्ड बाउन्ड, पेपरबैक

साहित्य विमर्श प्रकाशन

Contact

Email: contact@sahityavimarsh.in

2nd Floor, 987,Sec-9
Gurugram Haryana, 122006

Subscribe Newsletter

About Us

साहित्य विमर्श प्रकाशन, वह मंच है, जो भाषा-विशेष, विधा-विशेष, क्षेत्र-विशेष, लेखक-विशेष आदि बंधनो से पाठकों, लेखकों एवं प्रकाशकों को आजादी प्रदान करता है। हम प्रकाशन व्यवसाय के तीन स्तंभ – पाठक, लेखक एवं प्रकाशक को एक साथ लेकर चलने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

पाठकों को कम से कम दर में उच्चकोटि की पठन-सामग्री मुहैया कराना, लेखकों के मन के भाव व उनकी कलम की कार्यकुशलता को उचित स्थान देना एवं प्रकाशकों और उनकी पुस्तकों को अधिकाधिक पाठकों तक पहुंचाना। 

© साहित्य विमर्श प्रकाशन 2021 

Designed and Managed by Sahaj Takneek