Skip to content

549 या अधिक की खरीद पर डिलीवरी फ्री

449 या अधिक की खरीद पर कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प उपलब्ध (COD Charges: INR 50)
mandir ka rahasya

139 (-7%)

Age Recommendation: Above 5 Years
ISBN: 978-93-92829-37-6 SKU: SV2811 Category:

Free for Subscribers

Free Shipping for SV Prime Members

Estimated Dispatch: November 28, 2022

Check Shipping Days & Cost //

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

More Info

Mandir Ka Rahasya | तरुण और वरुण दोनों भाई देहरादून गए तो थे अपने उमेश अंकल के साथ छुट्टियाँ बिताने, जो वहाँ फॉरेस्ट ऑफिसर थे। लेकिन उनका सामना हुआ अजीब ओ गरीब घटनाओं और लोगों से।

खंडहर हो गए मंदिर के अंदर कोई रहस्यमयी दुनिया होगी, उन्होंने सोचा तक नहीं था। गाँव में रहने वाले मेरू के साथ मिल कर वे किन-किन रोमांचकारी मोड़ों से गुजरते हुए न सिर्फ रहस्य से पर्दा उठाते हैं वरन जंगल के संरक्षण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

क्या है मंदिर का रहस्य (Mandir Ka Rahasya) और क्या है प्रार्थना चक्र का राज़… जानने के लिए पढ़िए यह रोचक बाल उपन्यास।

Book Details

Weight 220 g
Dimensions 13 × 2 × 20 cm
Pages:   110

Mandir Ka Rahasya | तरुण और वरुण दोनो भाई देहरादून गए तो थे अपने उमेश अंकल के साथ छुट्टियां बिताने, जो वहां फॉरेस्ट ऑफिसर थे। लेकिन उनका सामना हुआ अजीब ओ गरीब घटनाओं और लोगों से।

खंडर हो गए मंदिर के अंदर कोई रहस्यमई दुनिया होगी, उन्होंने सोचा तक नहीं था। गांव में रहने वाले मेरू के साथ मिल कर वे किन किन रोमांचकारी मोड़ो से गुजरते हुए न सिर्फ रहस्य से पर्दा उठाते हैं वरन जंगल के संरक्षण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

क्या है मंदिर का रहस्य (Mandir Ka Rahasya) और क्या है प्रार्थना चक्र का राज़ जानने के लिए पढ़िए यह रोचक बाल उपन्यास।

सुमन बाजपेयी एम.ए. हिंदी आनर्स व पत्रकारिता का अध्ययन। पिछले 32 सालों से कहानी, कविता व महिला विषयों, पर्यटन तथा बाल-लेखन में संलग्न। 6 कहानी संग्रह प्रकाशित ’खाली कलश’, ‘ठोस धरती का विश्वास’, ‘अग्निदान’, ‘एक सपने का सच होना’ और ‘पीले झूमर’ और ‘फोटोफ्रेम में कैद हंसी’ पेरेटिंग पर पर दो किताबें प्रकाशित – ‘अपने बच्चे को विजेता बनाएं’ ‘सफल अभिभावक कैसे बनें’ अन्य प्रकाशित पुस्तकें ‘मलाला हूं मैं’, ‘इंडियन बिजनेस वूमेन’, ‘नागालैंड की लोककथाएं’ ‘ असम की लोककथाएं’, ‘इंदिरा प्रियदर्शिनी’, ‘पिंजरा’ 800 से अधिक कहानियां व कविताएं, 1000 से अधिक लेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं. हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषाओं में लेखन. 160 से अधिक पुस्तकों का अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद. आकाशवाणी से निरंतर कहानियों का प्रसारण संप्रतिः स्वतंत्र पत्रकारिता व लेखन व पर्यटन पर लेखन. पुस्तकों का अनुवाद कैसे किया जाता है, इस पर मेंटरशिप प्रोग्राम व स्टोरी टेलिंग. पूर्व संपादक चिन्ड्रन्स बुक ट्रस्ट पूर्व एसोसिएट एडीटर सखी पूर्व एसोसिएट एडीटर मेरी संगिनी पूर्व एसोसिएट एडीटर फोर्थ डी वूमेन