Skip to content

549 या अधिक की खरीद पर डिलीवरी फ्री

449 या अधिक की खरीद पर कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प उपलब्ध (COD Charges: INR 50)
कैसा कुत्ता है | kaisa kutta hai
प्रकाशक: हिंदयुग्म प्रकाशन

130 (-35%)

ISBN: 978-9392820267 SKU: HY2374 Category:

Free Shipping for SV Prime Members

Estimated Dispatch: November 28, 2022

Check Shipping Days & Cost //

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

More Info

Kaisa Kutta Hai– collection of songs by Rahgeer

Book Details

Weight 110 g
Dimensions 19.8 × 0.9 × 12.9 cm
Pages:   144

‘कैसा कुत्ता है!’ | ‘Kaisa Kutta Hai’ घुमक्कड़ कलाकार, गायक और कवि राहगीर की कविताओं का पहला संकलन है। इस संग्रह में राहगीर के लोकप्रिय गीतों के साथ बहुत-से ऐसे गीत और कविताएँ शामिल हैं, जो अभी तक न कहीं प्रकाशित हुए हैं और न ही प्रस्तुत।

राजस्थान के सीकर ज़िले में पैदा हुए राहगीर एक घुमक्कड़ कलाकार हैं। देश भर घूमने, जीवन-समाज को क़रीब से देखने तथा महसूसने का इनका अनुभव इनके गीतों, कविताओं और कहानियों में दृष्टिगोचर होता है। राहगीर ख़ुद के लिखे हिंदी गीतों के अलावा राजस्थानी, हिमाचली, पंजाबी आदि भाषाओं में लोकगीत भी गाते हैं। अपने सच्चे-सरल लेखन और गायकी से इन्होंने पूरे देश का दिल जीता है। ‘फूलों की लाशों में ताज़गी चाहता है’, ‘तुम पकड़ के गाड़ी मेरे गाँव आओगे’, ‘जाहिलों का कोई शहर नहीं, क्या जयपुर क्या दिल्ली’ और ‘कैसा कुत्ता है’ (Kaisa Kutta Hai) जैसे गीत लोगों की ज़ुबान-ज़ुबान पर हैं। अब तक इनके तीन एल्बम और 35 से अधिक गीत रिलीज़ हो चुके हैं। यह इनका पहला कविता-संग्रह है। इनके गाने यूट्यूब, स्पॉटिफ़ाई इत्यादि पर सुने जा सकते हैं। इनके सफ़र का हिस्सा बनने के लिए सोशल मीडिया पर Rahgir नाम से जुड़ा जा सकता है।