Close
Skip to content
By सुधीर मौर्य
M.R.P.: 145 (Sale Price)
Format: पेपरबैक, किंडल
ISBN: 9788195217106 SKU: SV919 Category: , Tags: ,
Age Recommendation: Above 14 Years
(2 customer review)
  • ऐतिहासिक उपन्यास इंद्रप्रिया, अपने समय की सर्वाधिक सुन्दर स्त्री, एकनिष्ठा नर्तकी, कुशल कवियत्री, समर्पित प्रेयसी, ओरछा की राय प्रवीना की केवल कथा भर नहीं है, अपितु यह दस्तावेज है, उस वीरांगना का जिसने कामुक शहंशाह अकबर के मुग़ल दरबार में अपनी विद्वता से न केवल अपनी अस्मिता की रक्षा की बल्कि उसने अकबर को पराजित भी किया.

More Info

Book Details

Weight 0.120 g
Dimensions 20 × 2 × 14 cm

Share your thoughts!

5 out of 5 stars

2 reviews

Let us know what you think...

What others are saying

  1. सिद्धार्थ अरोड़ा 'सहर'

    इतिहास का एक नया मोड़

    सिद्धार्थ अरोड़ा ‘सहर’ (verified owner)

    इस तरह की भाषा, इतिहास का ज्ञान और हिम्मत हौसले की दास्तान छपती रहनी चाहिए। बहुत बढ़िया।

    (0) (0)

    Something wrong with this post? Thanks for letting us know. If you can point us in the right direction...

  2. Nilesh Pawar

    Nilesh Pawar

    बहुत दिनो बाद कोई ऐसी किताब पढ़ी जिसने मुगल काल के समय से परिचित करवाया।
    निः संदेह राय प्रवीन की बहुमुखी प्रतिभा को पाठको तक पहुंचने में लेखक सुधीर मौर्य की मेहनत प्रशंसा योग्य है।
    बुंदेलखंड के गौरव को बढ़ाने वाली राय प्रवीन के साथ साथ राजा इंद्रजीत, वीर सिंह, कवि केशव और अब्दुल रहीम खानखाना के वीरोचित गुणों को सामने लाने का महती कार्य यह किताब करती है।

    (0) (0)

    Something wrong with this post? Thanks for letting us know. If you can point us in the right direction...

×

Login

Register

A password will be sent to your email address.

Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes described in our privacy policy.

Continue as a Guest

Don't have an account? Sign Up

साहित्य विमर्श प्रकाशन

Contact

Email: contact@sahityavimarsh.in

2nd Floor, 987,Sec-9
Gurugram Haryana, 122006

Subscribe Newsletter

About Us

साहित्य विमर्श प्रकाशन, वह मंच है, जो भाषा-विशेष, विधा-विशेष, क्षेत्र-विशेष, लेखक-विशेष आदि बंधनो से पाठकों, लेखकों एवं प्रकाशकों को आजादी प्रदान करता है। हम प्रकाशन व्यवसाय के तीन स्तंभ – पाठक, लेखक एवं प्रकाशक को एक साथ लेकर चलने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

पाठकों को कम से कम दर में उच्चकोटि की पठन-सामग्री मुहैया कराना, लेखकों के मन के भाव व उनकी कलम की कार्यकुशलता को उचित स्थान देना एवं प्रकाशकों और उनकी पुस्तकों को अधिकाधिक पाठकों तक पहुंचाना। 

© साहित्य विमर्श प्रकाशन 2021 

Designed and Managed by Sahaj Takneek