Skip to content

449 या अधिक की खरीद पर डिलीवरी फ्री

Best seller
प्रकाशक: सन्मति प्रकाशन
(1 customer review)

110 (-27%)

Age Recommendation: Above 14 Years
ISBN: 978-9390539987 SKU: SP2519 Category:

Free Shipping for SV Prime Members

Estimated Dispatch: October 2, 2022

Check Shipping Days & Cost //

1 review for Best Seller | बेस्ट सेलर

5.0
Based on 1 review
5 star
100
100%
4 star
0%
3 star
0%
2 star
0%
1 star
0%
  1. Avatar

    anurag.eib

    समीक्षा किताब की

    किताब – Best seller

    लेखक – अभिलेख द्विवेदी

    प्रकाशक – सन्मति पब्लिशर्स

    पेज – 120

    मूल्य – 150/-

    इस किताब से पहले अभिलेख जी की एक किताब पढ़ी थी “फरेब का सफ़र“ जिस रफ़्तार की वह किताब है उसी से प्रभावित होकर उनकी अगली किताब पढने का मन बना लिया था। रस्किन बांड सर की एक किताब है “लेखक कैसे बनें“ उस किताब को पढ़िए अगर लेखक बनने का मन हो तो और जब आप किताब लिख लें तब यह किताब “best seller“ पढ़ें। रस्किन बांड सर आपको लिखना सिखा देंगे और अभिलेख जी इस किताब के माध्यम से आपको दिखना, बिकना और best seller होने का फार्मूला बता सकते हैं।
    कहानी शुरू होती है सादिक से जो कि एक लेखक है और उसकी पहली ही किताब हिट हो गयी है। सादिक के प्रोग्राम को लगातार फॉलो करने वाली लड़की आइना से उसको प्यार होने लगता है। आइना के पिता प्रभात शेखावत जो अंग्रेजी के बड़े लेखक हैं उनकी बेटी शादी करना चाहती है हिंदी के नये लेखक सादिक से जो best seller लिखने और इंटरनेशनल फेम पाने का प्रयास करता है। प्रकाशक मित्र होने की वजह से पहली किताब तो सादिक ने best seller होने के सारे हथकंडे अपना कर नाम कमा लिया लेकिन क्या वो आगे भी इस टाइटल को बरक़रार रख पाता है और आइना और सादिक के रिलेशन का क्या होता है यह तो आपको किताब पढ़कर ही पता लगेगा। लेकिन इतना तय मानिये इस किताब ने प्रकाशन से जुड़े कई परत को उघाड़ दिया है।
    किताब लिखाई, छपाई, दिखाई से लेकर बेचने और best seller होने तक की यात्रा का खूब सूरत वर्णन है। कई बातें अभिलेख जी ने इस किताब में प्रकाशक के ऊपर कटाक्ष के तरीके से कही है लेकिन कहीं न कहीं नए लिखने वाले लेखकों को आगे बढ़ने का एक आईडिया भी दे दिया है। अब यह आपके ऊपर है की इसे आप positive लेते हैं या negative। शुरू से अंत तक किताब आपको बांध कर रख देती है। राजनीति से जुड़े बिलकुल ताजा मुद्दे भी इसी किताब में मिल जाते हैं। एक जो मुझे कमी लगी कि आफरीन के ऊपर थोड़ा और लिखना चहिये था। प्रकाशन इंडस्ट्री की पोल जबरदस्त तरीके से इसमें खुलती हुई दिखाई पड़ती है। Royalti का मामला भी इसमें दिखता है। किताब में खूब सारी पंक्तियाँ मार्क करने वाली हैं जैसे –

    1. जो बातें जोश में कही गई रहती हैं अक्सर वो एक बोझ बन जाती हैं।

    2. इश्क ऐसी चीज है जो हर बड़ी चीज को अपने आगे बहुत कम आंकती है, शायद इसलिए इश्क को अपनी मंजिल के लिए जरुरत से ज्यादा जूझना पड़ता है।

    3. स्टारडम का उसूल है…. “ आदमी बहकता जरुर है।”

    4. वक्त बीतने के साथ कई चीज बदल जाती हैं | कुछ लोग वक्त के साथ बदल जाते हैं और कुछ लोगों को वक्त खुद बदल देता है।

    5. लेखक कब किसको अपनी कहानी का कौन सा किरदार बना ले, ये लेखक खुद को भी नहीं बताता।

    100 से ऊपर किताबें पढ़ लेने के बाद मुझे भी अब कई बार जानने का मन करने लगा है कि कैसे छपती और बिकती है किताबें तो मेरे कई सारे सवालों का जवाब इस किताब में मिला | बहुत से लोग इस किताब को एक एजेंडा की तरह भी ले सकते हैं जबकि इसमें पोल खुलने के साथ साथ प्रेम कहानी भी है लेकिन मैं निजी रूप से इस किताब को एक positive आईडिया के रूप में देखता हूँ | हिंदी पाठक को ये किताब पढनी चाहिए और हिंदी के लेखकों को “ बेस्ट seller “ जरुर पढनी चाहिए | कहानी का फ्लो शानदार है 3 से 4 घंटे में किताब आप आसानी से पढ़ लेंगे | किताब amazon और flipkart पर उपलब्ध है।

    लेखक और प्रकाशक को शुभकामनाएं। धन्यवाद।

    अनुराग वत्सल

    ( नई वाली हिन्दी )

    (0) (0)

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

Cancel

More Info

Best Seller – जीतने की जद्दोजहद में लोग क्या और कितना हार जाते हैं ये सफर के आखरी पड़ाव में और मंज़िल पर पहुँचने से पहले पता चल जाता है। लेकिन कुछ लोग इसे नजरअंदाज करना ही नियति बना लेते हैं।

Best seller की कहानी में सैकड़ों उतार चढ़ाव हैं।

उनके साथ फिर वही होता है जो सादिक के साथ हुआ।

आईना से प्यार और फिर शादी लेकिन इंटरनेशनल लेवल का Best seller बनने की उसकी ख्वाहिश अभी पूरी नहीं हो रही थी।

हिंदी ऑथर के लिए आसान है? आईना के पापा, प्रभात शेखावत खुद इंटरनेशनल बेस्टसेलर हैं तो फिर रास्ता आसान हो, शायद! शैलेष और अंशुल केसरी, पब्लिशिंग इंडस्ट्री के दो ऐसे दिग्गज जो किसी ऑथर का साथ दें, तो सब मुमकिन है।

फिर इनमें से कौन साथ देगा सादिक का? क्योंकि बेस्टसेलर बनना हर तरीके से फायदे का सौदा होता है! क्या ये कहानी वाकई सादिक की है या किसी ऐसे शख्स की है जिसने बेस्टसेलर बनने का सबसे अलग रास्ता चुना? पढ़िये और बताइए कि बेस्टसेलर कौन बना!

Book Details

Weight 200 g
Dimensions 13 × 1.2 × 20 cm
Pages:   120

Best Seller – जीतने की जद्दोजहद में लोग क्या और कितना हार जाते हैं ये सफर के आखरी पड़ाव में और मंज़िल पर पहुँचने से पहले पता चल जाता है। लेकिन कुछ लोग इसे नजरअंदाज करना ही नियति बना लेते हैं।

Best seller की कहानी में सैकड़ों उतार चढ़ाव हैं।

उनके साथ फिर वही होता है जो सादिक के साथ हुआ।

आईना से प्यार और फिर शादी लेकिन इंटरनेशनल लेवल का Best seller बनने की उसकी ख्वाहिश अभी पूरी नहीं हो रही थी।

हिंदी ऑथर के लिए आसान है? आईना के पापा, प्रभात शेखावत खुद इंटरनेशनल बेस्टसेलर हैं तो फिर रास्ता आसान हो, शायद! शैलेष और अंशुल केसरी, पब्लिशिंग इंडस्ट्री के दो ऐसे दिग्गज जो किसी ऑथर का साथ दें, तो सब मुमकिन है।

फिर इनमें से कौन साथ देगा सादिक का? क्योंकि बेस्टसेलर बनना हर तरीके से फायदे का सौदा होता है! क्या ये कहानी वाकई सादिक की है या किसी ऐसे शख्स की है जिसने बेस्टसेलर बनने का सबसे अलग रास्ता चुना? पढ़िये और बताइए कि बेस्टसेलर कौन बना!