Skip to content

449 या अधिक की खरीद पर डिलीवरी फ्री

baali
प्रकाशक: सूरज पॉकेट बुक्स प्रकाशन

235 (-40%)

Age Recommendation: Above 15 Years
ISBN: 978-9388094252 SKU: SPS2492 Category:

Free Shipping for SV Prime Members

Estimated Dispatch: October 2, 2022

Check Shipping Days & Cost //

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

More Info

Baali – एक भीषण आतंकवादी हमले के पश्चात कुछ निष्क्रिय संगठन पुन: सुप्तावस्था से बाहर आ गये और आरंभ हो गई भीषण नरसंहारो की एक अघोषित श्रृंखला जिसने देश के साथ-साथ सम्पूर्ण विश्व को हिला कर रख दिया।

इस Baali श्रृंखला से एक रहस्यमयी योद्धा ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई जिसकी जड़ें प्राचीन भारत की गाथाओं से जुड़ी हुई थी, वह जिस उद्देश के लिए प्रतिबद्ध था उसने समूचे विश्व की धारणाओं एवं इतिहास के साथ-साथ वर्तमान और भविष्य तक को बदल कर रख दिया।

सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलियुग तक छिपा हुआ एक रहस्य, एक ऐसी शक्ति, जो सम्पूर्ण विश्व के साथ-साथ एक समूचे युग को परिवर्तित करने की क्षमता रखती थी। जातियों-प्रजातियों के मध्य अस्तित्व की महीन सीमा रेखा के मिथकों को जिसने बिखेर कर रख दिया।

Book Details

Weight 420 g
Dimensions 13 × 2.5 × 20 cm
Pages:   420

Baali – एक भीषण आतंकवादी हमले के पश्चात कुछ निष्क्रिय संगठन पुन: सुप्तावस्था से बाहर आ गये और आरंभ हो गई भीषण नरसंहारो की एक अघोषित श्रृंखला जिसने देश के साथ-साथ सम्पूर्ण विश्व को हिला कर रख दिया।

इस Baali श्रृंखला से एक रहस्यमयी योद्धा ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई जिसकी जड़ें प्राचीन भारत की गाथाओं से जुड़ी हुई थी, वह जिस उद्देश के लिए प्रतिबद्ध था उसने समूचे विश्व की धारणाओं एवं इतिहास के साथ-साथ वर्तमान और भविष्य तक को बदल कर रख दिया।

सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलियुग तक छिपा हुआ एक रहस्य, एक ऐसी शक्ति, जो सम्पूर्ण विश्व के साथ-साथ एक समूचे युग को परिवर्तित करने की क्षमता रखती थी। जातियों-प्रजातियों के मध्य अस्तित्व की महीन सीमा रेखा के मिथकों को जिसने बिखेर कर रख दिया।